पीढ़ी अंतराल क्या है ?

जैसा की हम जानते है ,बदलते समय के साथ -साथ संसार में कई परिवर्तन होते है ,तथा परिवर्तन ही संसार का नियम है| परिवर्तन के चलते जो -जो व्यक्ति ने जिस समय अंतराल में धरती पर जन्म लिया है तथा उनकी सोच विचार पूर्व में जन्मे लोगो से बहुत अलग है, हम अक्सर देखते है हमारे पूर्वज हुए लोग हमारे दादा दादी का समय ,हमारे माता पिता से तथा
हमारा समय हमारे माता पिता से बिलकुल अलग है | हमारे पूर्वजो केविचारो में और आज की वर्तमान पीढ़ी के विचारो मे अत्यंत फर्क देखने को मिलता है तथा विचारो की इस भिन्नता के कारण निरंतर होते हुए बदलाव को पीढ़ी अंतराल या जनरेशन गैप कहा जाता है |
जनरेशन गैप एक दिलचस्प अवधारणा पीढ़ी अंतराल आमतौर पर माता पिता एवं उनके बच्चो के बिच संघर्ष का कारण है | यह एक वास्तविक एवं दिलचस्प अवधारणा है ,संसार में अगर इस तरह का अंतर नहीं होता तो वास्तव में दुनिया काफी अलग होती ,फैशन के इस दौर में तथा वर्तमान के युवाओ की विचारधाराओ में बहुत बड़ा परिवर्तन देखने को मिला है | वर्तमान पीढ़ी के पास तकनिकी ज्ञान होने तथा मल्टीमीडिया अथवा मोबाइल फ़ोन से जुड़ने के बाद बहुत परिवर्तन आया है | राजनितिक ,सामाजिक, धार्मिक सभी विचारधारों में आज की पीढ़ी के विचार उनके पूर्वज व् माता पिता के विचारो से पूर्णतः भिन्न है तथा उनका नजरिया कुछ और ही है तथा हमारे भारत देश में बदलाव का मूल कारण भी विचारधाराओ की भिन्नत्ता ही है |

generation-gap02

वर्त्तमान पीढ़ी का जीवन यापन का तरीका

पीढ़ी अंतराल के चलते समाज कई बदलाव हुए है | विशेषकर भारत जैसे देश में जहा संयुक्त परिवार की प्रथा पहले से ही प्रचलित थी ,तथा बाद में भारत में अलग परिवार बसाने की अवधारणा शुरू हो गयी और यह भी पीढ़ी के अंतराल का ही एक परिणाम है | लोग इन दिनों अपनी-अपनी गोपनीयता (privacy) की लालसा रहते है और अपने जीवन को अपने स्तर व अपने तरीके से जीना चाहते है ,परन्तु संयुक्त परिवार होना इसमें मुख्य बाधा है इस प्रकार पीढ़ियों के बदलाव के चलते लोग अपने अलग परिवार बसाते है एवं संयुक्त परिवार में रहना पसंद नहीं करते तथा यह भी पीढ़ी अंतराल का ही परिणाम है |
भविष्य में आने वाली पीढ़ी की विचारधाराओ में और भी अत्यधिक फर्क देखने को मिलेगा|