जाने मंदिर जाने से क्या फायदे होते है?

भारतीय प्राचीन संस्कृति तथा हमारी भारत भूमि ऐसी भूमि है जिसे आस्था का केंद्र माना जाता है इस भूमि पर कई ऋषि मुनियो एवं विद्वानों ने जन्म लिया है यह ईश्वर की भूमि है तथा यहां पर भगवानो की पूजा की जाती है एवं बहुत मंदिर है, तथा मंदिरो का वातावरण बहुत शुद्ध एवं शीतल होता है जिससे मंदिर के भीतर प्रवेश करने से मन को शीतल क्र देने वाली शांति प्राप्त होती है | मदिर जाकर मनुष्य सभी मुश्किलों एवं दुःख तक़लीफो को दूर करने के लिए ईश्वर से प्राथना करते है
मंदिर के अंदर तथा बहार का वातावरण बहुत शांति प्रदान करने वाला तथा साफ़ एवं स्वच्छ होता है तथा मंदिर जाने से कई फायदे होते है जिससे हमारे शारीरिक एवं मानसिक समस्याओ का निवारण हो जाता है | वैज्ञानिक आधार पर देखा जाए तो मंदिर जाने से मस्तिष्क में सकारात्मक ऊर्जा आती है जिससे हमारा मस्तिष्क एक नयी शुद्ध ऊर्जा से भर जाता है |

benefits_temple02

मंदिरो में सुबह शाम ईश्वर की आराधना की जाती है तथा संस्कृत के मंत्रो का उच्चारण किया जाता है जिसकी ध्वनि से वायुमंडल में समाहित नकारात्मक ऊर्जा का नाश हो जाता है एवं सकारात्मक ऊर्जा उसके स्थान पर आजाती है | मंदिर में शंख बजाया जाता है ,घण्टिया बजायी जाती है तथा डमरू बजाया जाता है एवं दीप जलाये जाते है जिससे मंदिर के वातावरण में शुद्धता रहती है तथा मंदिर जाने से हमारे शरीर में तथा मस्तिष्क में पॉजिटिव वाइब्रेशन बहुत तेज़ी से होते है
जिससे मंदिर के वातावरण में प्रवेश करने से ही हमारा मानसिक तनाव कम हो जाता है एवं मन शीतल एवं शांत हो जाता है ,हमारा शरीर प्रफुल्लित हो उठता है जिससे नयी ऊर्जा हमारे शरीर में प्रवेश करती है | ॐ का उच्चारण ,शंख ,घण्टा ,डमरू का जब स्वर सुनाई देता है तो हम आसानी से उस स्वर में ॐ शब्द का उच्चारण सुन पाते है तथा इसकी स्वर ध्वनि से वायु में मौजूद कीटाणुओं का नाश होता है , इसे भी वैज्ञानिकों द्वारा प्रमाणित किया गया है परन्तु यह सभी क्रियाए अति प्राचीन काल के समय से चली आ रही है अर्थात ऋषि मुनियो द्वारा इन क्रियाओ को किया जाता था तथा इसके बारे में उन्होंने पहले ही खोज कर ली थी | वैज्ञानिको द्वारा इस प्रक्रिया को अलग दृश्टिकोण से बताया जाता है परन्तु उसके भीतर का सार समान ही है |
मंदिरो मे अधिक सीढिया होना ,हाथ जोड़ना ,ताली बजाना ,शीश झुकाना और भूमि पर लेटकर ईश्वर को प्रणाम करने के पीछे भी हमारे शरीर में कई क्रियाऐं होती है जिससे हमारा मन मंदिर में जाने से शांत होता है एवं अच्छे विचारो का आगमन होता है | ताली बजाने से भी कई फायदे होते है जब हम हमारे दोनों हाथो को एक दूसरे के सामने रखकर निरंतर बजाते है
तो हमारे हाथ में पाए जाने वाले बिंदु आपस में दबते है तथा बार बार दबने से उनमे एक्यूप्रेसर की क्रिया होती है जिससे हमारे शरीर के कई अंगो पर अच्छा प्रभाव पड़ता है | वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो मंदिर जाने से बहुत लाभ होते है |
हमारे देश में हर स्थान पर मंदिर है तथा मंदिरो में ईश्वर की स्थापना अतिप्राचीन काल से चली आ रही है हमारे देश की शोभा और रमणीयता, सुंदरता भी मंदिरो से ही पहचानी जाती है |