लत क्यों लग जाती है क्या आप जानते हो ?

पूरी दुनिया में कई गंभीर समस्याएँ है परन्तु एक आम व्यक्ति के जीवन में सबसे बड़ी समस्या किसी भी चीज़ की लत का लगना होती है | लत किसी भी प्रकार की हो सकती है ,जैसे किसीको अधिक मसालेदार खाना खाने की आदत होती है,किसीको अधिक मीठा खाने की लत होती है | पूरी दुनिया में हर व्यक्ति विशेष को किसी न किसी चीज़ की लत जरूर होती है जो की हमारे जीवन की सबसे दयनीय समस्या है जिससे हमारे करियर पर सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है ,और हम पूर्णरूप से हमारे कार्य पर ध्यान नहीं दे पाते है जो की किसी भी कार्य को करने के लिए बहुत आवश्यक होता है | ऐसी किसी भी प्रकार की लत लगने से हमने सतर्क होकर खुद का बचाव करना चाहिए |

लत के प्रकार(types of addiction)

लत किसी भी प्रकार की हो सकती है ,जैसे किसी से बात करने की लत ,मसालेदार खाना ,अत्यधिक मीठा खाना ,किसी एक व्यक्ति की ओर आकर्षित होकर उसको अपनी आदत बनाना ,दवाइयों की लत ,ड्रग्स लेना ,तम्बाकू का सेवन ,गांजा ,शराब का सेवन ,अधिक खर्च करना,जुआ खेलना आदि ऐसी कई लतो के लगने के कारण व्यक्ति को कई समस्याओ का सामना करना पड़ता है तथा इससे ह्रदय रोग एवं अन्य स्वास्थ सम्बन्धी कई बीमारिया उत्पन्न होती है | किसी भी लत का व्यक्ति के शरीर पर हावी होने से उसे कई घरलू मतभेद एवं रिस्तो के टूटने का डर बना रहता है एवं अध्ययन कार्य में भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है |
कते है एवं स्वस्थ एवं सुचारु रूप से जीवन यापन कर सकते है |

addiction01

युवाओ पर बुरी लत का प्रभाव

युवाओ में किसी भी चीज़ की बहुत जल्दी लत लग जाती है ,गलत संगती होने के कारण बुरी लत आसानी से लग जाती है | तथा उसके विधार्थी जीवन एवं करियर पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है ,नशे की लत आजकल सबसे ज्यादा आपको युवाओ में देखने मिल ही जाती है | सिगरेट ,तम्बाकू,शराब , गांजा तथा अन्य नशीले पदार्थ जो की आसानी से उपलब्ध हो जाते है जिसमे पेट्रोल सूंघना ,विक्स खाना ,सर्दी-खासी की दवाइयों को नशे करने के लिए उपयोग करना ,थिनर सूंघना आदि|विधार्थी जीवन में ऐसी लातो का लगना कई गंभीर समस्याओ को न्योता देती है जिससे युवाओ के अध्ययन काल के साथ-साथ उनके भविष्य को भी ख़त्म कर देती है |

addiction02

लत लगने के बाद क्या करे ?

अपने मन पर काबू रखना एवं गलत पदार्थो के सेवन करने से हमेशा इनकार करना चाहिए तथा हमेशा दिमाग को सतर्क रखना चाहिए किसी भी प्रकार के पदार्थ का सेवन करने से पहले उसे परख लेना चाहिए की उसमे कोई नशीले पदार्थ या हानिकारक अवयव तोह नहीं है ,जिससे हमारे स्वास्थ एवं दिमाग पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है | जब एक स्वस्थ आदमी किसी भी तनाव या परेशानी या दुःख-दर्द में होता है तो वह उससे छुटकारा पाने के लिए एवं मौज मस्ती व् आंनद के लिए नशीले पदार्थो का सेवन कर लेता है | एक दो बार सेवन करने के बाद जब वह फिर किसी तनाव या परेशानी में होता है तो फिर से नशीले पदार्थो का सेवन करने लगता है जिससे धीरे धीरे यह एक लत का रूप ले लेती है | किसी भी चीज़ की लत लगने के बाद हम उससे छुटकारा तभी प् सकते है जब हम हमारे मस्तिष्क में ठान ले की अब हमे किसी भी गलत पदार्थो का सेवन नहीं करना है तथा किसी भी कार्य में निरन्तर व्यस्त रहने से भी नशे की याद नहीं आती है | ध्यान (meditation) लगाने से किसी भी प्रकार की लत से निजात पायी जा सकती है | योग ,प्राणायाम करने से भी हम हमारे लत से ग्रसित शरीर को स्वस्थ बना सकते है एवं स्वस्थ एवं सुचारु रूप से जीवन यापन कर सकते है |